Day: September 28, 2020

Astrology

Black Magic in hindi

काला जादू क्या है–

काला जादू का नाम सुनकर ही लोग डर जाते हैं, क्योंकि व्यक्तिगत लाभ और दूसरों को नुकसान पहुंचाने के लिए कुछ स्वार्थी और ईर्ष्यालु लोग जादुई शक्तियों का या काली शक्तियों का उपयोग करते हैं। मुठकर्णी विद्या, वशीकरण, स्तंभन मारण, टोने-टोटके आदि सब काला जादू के अंतर्गत आते हैं।

काले जादू का प्रभाव–

काला जादू वस्तुतः नकारात्मक ऊर्जा का प्रसार है। कुछ लोग जिनकी कुंडली में सूर्य, चंद्रमा, शनि और मंगल यदि राहु केतु से पीड़ित होते हैं, तो उन पर नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव जल्दी पड़ता है। सूर्य ग्रहण या चंद्र ग्रहण वाले दिन भी नकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव अत्यधिक होता है। जब किसी व्यक्ति पर नकारात्मक ऊर्जा का प्रहार होता है, तब उसका शरीर इसका प्रतिरोध करने का प्रयास करता है। उसके दिल की धड़कन अचानक बढ़ जाती है। मन और मस्तिष्क से वह खुद को कमजोर महसूस करने लगता है। उसे रात को सोते समय डरावने सपने आने लगते हैं। ऐसे लोगों को कई बार अकेलापन अच्छा लगने लगता है, भूख प्यास में कमी आ जाती है। कई बार ऐसे लोग बीमार भी रहने लगते हैं।

यदि किसी पर काला जादू या नकारात्मक ऊर्जा का प्रहार किया गया हो, तो उसके लक्षण भी अपने आसपास महसूस होने लगते हैं। घर में प्रवेश करते ही नकारात्मक विचार आने रखते हैं, घर में रहने वाले लोगों के काम बनते बनते बिगड़ जाते हैं, घर के लोग प्रायः बीमार रहने लगते हैं, अचानक आर्थिक समस्याएं आ जाती हैं, कभी-कभी घर के मुख्य द्वार पर पानी इकट्ठा होने लगता है, अक्सर घर में कीड़े मकोड़े आने लगते हैं, परिवार के लोगों में आपसी प्यार कम होने लगता है, उनमें लड़ाई झगड़े होने लगते हैं, मेहमान नाराज होकर जाने लगते हैं। कभी-कभी लोगों को तंत्र मंत्र द्वारा अदृश्य रूप से बांध दिया जाता है अर्थात परिवार की प्रगति रुक जाती है और वह परिवार संकटों से घिर जाता है। गृह कलह, व्यापार में नुकसान, नौकरी का छूट जाना, आदि ऐसे कई संकट अचानक आने लगते हैं, कुछ लोगों पर कर्ज बढ़ता ही चला जाता है, यह दर्शाता है कि उस परिवार पर किसी ने काला जादू किया है।

काले जादू से बच पाने का प्रयास तो सभी लोग करते हैं। कभी भी सड़क पर या तिराहे या चौराहे पर पढ़ी हुई नींबू मिर्ची अथवा कुछ खाने की सामग्री को लांघना नहीं चाहिए, ना ही वाहन से जाते समय वाहन के पहिए उस सामग्री को छूने चाहिए। ऐसा न करके आप अनजाने में ही काले जादू की चपेट में आ सकते हैं। यदि उपरोक्त लक्षणों में से आपको एक भी लक्षण लगातार अपने या अपने परिवार में प्रतीत हो रहा है, तो यह निश्चित है कि आप काले जादू के प्रभाव में हैं।

काले जादू के असर से मुक्त होने के उपाय–

काले जादू से मुक्त होने के लिए एक तरफ तो आपको शिव जी हनुमान जी और काली मां की उपासना करनी चाहिए तथा निम्नलिखित उपायों में से कुछ उपाय अपनाकर भी आप स्वयं को और अपने परिवार को काले जादू के नकारात्मक प्रभाव से मुक्त कर सकते हैं :

1.यदि आप स्वयं को बंधन में महसूस करते हैं, यदि आपको लगता है कि आपकी प्रगति रुक गई है या आपकी पदोन्नति होते-होते रुक गई है तो आपको चाहिए कि आप पिंजरे में पक्षियों को न रखें तथा जब भी किसी बहेलिये को पिंजरे में पक्षी ले जाते हुए देखें, तो यथासंभव पक्षियों को आजाद कर दें। इस कार्य से जहाँ आपकी उन्नति होगी, वहीं आप ऋण मुक्त होना भी शुरू हो जाएंगे।

2.ग्रहों के बुरे प्रभाव तथा काले जादू के नकारात्मक प्रभाव को रोकने के लिए एकादशी और प्रदोष के व्रत सर्वाधिक फलदायी होते हैं। क्योंकि यह व्रत राहु, चंद्र और शनि के अशुभ प्रभाव को समाप्त कर देते हैं। विधि पूर्वक किए गए एकादशी और प्रदोष के व्रत से आप के बंधन धीरे धीरे समाप्त हो जाते हैं।

3.प्रतिदिन हनुमान चालीसा का उच्च स्वर में पाठ करना भी शुभ फलदाई होता है। मंगलवार अथवा शनिवार को हनुमान जी के मंदिर में जाकर पूजा करें, हनुमान चालीसा पढ़े और प्रसाद चढ़ाएं तो हनुमान जी आपके सभी कष्टों को दूर करते हैं।

4.यदि आपके कोई कुलदेवी या कुलदेवता है, तो समय-समय पर उनके स्थान पर जाकर प्रसाद जरूर चढ़ाना चाहिए। कुलदेवी या देवता के स्थान पर जाकर एक साबुत नींबू ले और उसे पीड़ित व्यक्ति के सर पर से 21 बार उतार कर दो भागों में काट लें और दोनों को विपरीत दिशाओं में फेंक दें। फिर कुलदेवी या कुलदेवता से क्षमा मांग कर , पूजा पाठ करवा कर पंडित को दान दक्षिणा दे। इससे भी काले जादू का प्रभाव समाप्त होता है।

5.यदि पीड़ित व्यक्ति घर से कहीं जाने में असमर्थ है, तो एक मुट्ठी समुद्री नमक लेकर उसके सिर पर से तीन बार उतारकर दरवाजे के बाहर फेंक देना चाहिए। ऐसा 3 दिनों तक लगातार करना चाहिए। यदि फिर भी आराम न मिले, तो नमक को सिर पर से वार कर शौचालय में डालकर फ्लश कर दें। निश्चित रूप से लाभ मिलता है।

6.शिव जी, हनुमान जी या काली मां के मंदिर जाकर दर्शन करें। उनसे अपनी सहायता करने की और बंधन मुक्त करने की प्रार्थना करें। वहां 5 या 7 प्रकार के फल प्रसाद रूप में अर्पित करें। ऐसा पांच मंगलवार करने पर बंधन से मुक्ति मिलती है

7.यदि आपको कभी श्मशान जाना पड़े, तब लौटते वक्त कुछ सिक्के अपने पीछे फेंक दें और सिक्के फेंकते वक्त या उसके बाद मुड़ कर पीछे न देखें, इस से भी बंधन मुक्ति में सहायता मिलती है।

8.यदि आप अपने घर में सफेद आक का पौधा, तुलसी के पौधे के साथ लगाते हैं, तो धीरे धीरे आप पर से काले जादू का प्रभाव समाप्त होने लगता है। साथ ही सफ़ेद आक जिस घर में होता है, वहां जादू टोने का असर नहीं होता है।

9.जिन घरों में नियमित पूजा-पाठ, दान पुण्य किया जाता है ,जीव जंतुओं की रक्षा हो तथा गरीबों की मदद की जाए ,उन घरों पर शीघ्रता से काला जादू असर नहीं करता।

10. “राम लखन संग जानकी। जय बोलो हनुमान की।।” अथवा “ऊँ हं हनुमते नम:” ……इन मंत्रों के यथासंभव जाप से भी काले जादू का प्रभाव समाप्त होता है।

यदि इन उपायों को करने पर भी व्यक्ति को आराम न मिले और अपने आसपास उसे हमेशा नकारात्मक शक्तियों के होने का एहसास हो, तो शीघ्रातिशीघ्र किसी योग्य ज्योतिषी या वास्तुविद् से सलाह लेनी चाहिये।